Struggler

Sudhir Lunawat

Sudhir Lunawat

देश औऱ दुनियाँ के विभिन्न तरह के सिक्कों औऱ करेंसी नोटो के संग्रह के लिए मशहूर नाम हैं सुधीर लुणावत।

 
32 वर्ष के सुधीर लुणावत बीकानेर, राजस्थान के निवासी हैं औऱ फिलहाल सूरत (गुजरात) की एक प्रतिष्ठित टेक्सटाइल कम्पनी के लिए मार्केटिंग का कार्य कर रहे हैं। अपने मार्केंटिंग के काम के लिए साल के करीब 300 दिन देश के अलग-अलग हिस्सो का भ्रमण करने वाले सुधीर को आज की युवा पीढ़ी की तरह ना क्रिकेट खेलना आता हैं ना पतंग उड़ानी आती हैं ना ही मोबाइल पर गेम खेलने में कोई रुचि हैं। इस युवा को जुनून हैं बस अलग-अलग देशों की मुद्राओं का संग्रह करने का औऱ उनका अध्ययन करने का।


पिछले 20 वर्षो से देश विदेश के सिक्के औऱ करेंसी का संग्रह करने वाले सुधीर बताते हैं कि बचपन में घऱ पर अनायास ही मिले कुछ पुराने सिक्को ने सुधीर को इतना मोहित किया कि आज सुधीर सिक्कों दुनियाँ में एक जाना पहचाना नाम बन गया हैं। सुधीर के पास मानव सभ्यता की शुरुवात से लेकर वर्तमान समय की आधुनिक मुद्राओं का भव्य संग्रह हैं। सुधीर के संग्रह में पंचमार्क, नागा पद्मावती, मौर्य वंश, कुषाण साम्राज्य, मुगल साम्राज्य, ब्रिटिश साम्राज्य के साथ साथ देश भर के देशी रियासतों के सिक्के शामिल हैं इसके अलावा संसार के करीब 200 देशो में प्रचलित अलग-अलग तरह की मुद्राए भी सुधीर के संग्रह की शोभा बढा रही हैं। भविष्य में भारत सरकार द्वारा जारी होने वाले सभी तरह के नए सिक्कों की जानकारी पूरे देश में सोशल मीडिया के माध्यम से सुधीर ही आमजन को मुहैया करवाते हैं।


सुधीर के पास वर्तमान में करीब 30 हजार सिक्कों का संग्रह हैं पिछले कुछ समय से सुधीर ने पुरी दुनियाँ के सभी देशो के एक मूल्यवर्ग के नोटों को इकट्ठे करना शुरू किया हैं औऱ हाल फिलहाल में सुधीर के पास 100 से ज्यादा देशों के 1 मूल्यवर्ग के नोट संग्रहीत हो चुके हैं।
भविष्य में सुधीर अपने सारे संग्रह को  एक विशाल म्यूजियम में बदलना चाहतें हैं।
सख्त सिक्कों के संग्रह करने वाले सुधीर का नरम दिल पिघलता हैं तो बेजुबान जानवरो औऱ परिंदों के लिए। सुधीर बचपन से ही पशु कल्याण,जीव दया औऱ शाकाहार के प्रचार प्रसार की गतिविधियो में भी बड़ी दिलचस्पी से हिस्सा लेता हैं। सुधीर ने देश भर में अब तक अनगिनत घायल परिंदों औऱ बेजुबान जानवरो को प्राथमिक चिकित्सा औऱ इलाज उपलब्ध करवाया हैं। पशु कल्याण औऱ शाकाहार के लिए कार्य करने पर वर्ष 2014 में करुणा इंटरनेशनल संस्था द्वारा सुधीर को प्रथम राष्ट्रीय करुणा युवा पुरस्कार भी मिला हैं।


अपने काम के साथ साथ सुधीर को कहानियां, कविताएं औऱ पत्र लिखने का भी शौक हैं। सुधीर के पास दुनिया के प्रसिद्ध व्यक्तियों के जवाबी पत्रो औऱ ओटोग्राफ का बहुत बड़ा संग्रह है। सुधीर ने अब तक विश्व भर के करीब 1000 से ज्यादा सेलिब्रिटी लोगों को लेटर लिखे हैं। जिनमें से कई बड़ी हस्तीयों ने इन्हें वापस शानदार जवाब भी भेजे है। सुधीर के पास तिब्बती धर्म गुरू दलाई लामा, अमेरिकी पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश, बिल क्लिंटन, माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स, राकेश शर्मा ‌‍(प्रथम भारतीय जिन्होंने चांद पर कदम रखा), सुनील गावस्कर, प्रियंका चोपड़ा, नरेंद्र मोदी, रामनाथ कोविंद, अटल बिहारी वाजपेई, अब्दुल कलाम और राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल ऐसी कई बड़ी हस्तियों के ऑटोग्राफ का संग्रह है।


बेजुबान जानवरो औऱ पक्षियों को बचाने के मकसद से सुधीर ने अपने दादा उदय चंद औऱ दादी गंगा देवीं के नाम से एक फाउंडेशन भी बनाया है “उदय गंगा फाउंडेशन“। आमजन को इस अभियान से जोड़ने औऱ बेजुबान जीवो पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आमजन को जागरूक करने के मकसद से उदय गंगा फाउंडेशन के फेसबुक पेज़ पर ऐसी जानकारीया भी   उपलब्ध करवाते हैं इस फेसबुक पेज़ से देश औऱ दुनियाँ के करीब 5000 से ज्यादा पशु कल्याण कार्यकर्ता सुधीर से जुड़े हैं।
सुधीर का कहना है कि “हर सिक्का चाहे वह नया हो या पुराना वह राष्ट्र की धरोहर है। उस सिक्के के साथ उस समय का इतिहास, उस समय की संस्कृति की एक झलक जरूर रहती है। प्रत्येक सिक्का आपने आप मे बहुत बड़ा इतिहास समेटे रखता है। किसी प्राचीन सिक्के को हाथ में लेना उस समय के इतिहास में पहुंचने का उसे महसूस करने का एक जरिया है। बदलते समय के साथ-साथ में सिक्कों की दुर्लभता औऱ कई तरह क़ी विशेषताओं को लेकर उनकी कीमत बढ़ती जाती है। सुधीर के अनुसार कोई भी सिक्का सिर्फ एक चमकीली धातु का टुकड़ा ही नही हैं कि जिसका सिर्फ़ कोई मौद्रिक मूल्य ही हो बल्की प्रत्येक सिक्का अपने आप में इतिहास,भूगोल, संस्कृति औऱ इतिहास की हजारो कहानियां समेटे रहता हैं। अपने काम के बाद बचे खाली समय को सुधीर  नये सिक्कों के संग्रह ,पत्रो औऱ ऑटोग्राफ के संग्रह के साथ-साथ पशु कल्याण के कार्यो में बिताता हैं ।

सुधीर लुणावत के बारे में इतना जानने के बाद अगर किसी को भी दुनिया भर के सिक्के और विदेशी मुद्राओं का संग्रह और सेलिब्रिटीज के ऑटोग्राफ देखने की इच्छा हो तो जरूर बीकानेर जाकर उनसे मिले।

हम साधारण लोगों का असाधरण जीवन संघर्ष हमारी वेबसाइट knownpedia पर पब्लिश करते है। mystory@knownpedia.com

Popular names for the collection of various varieties of coins and currency notes of the country and the world are known as Sudhir Lunawat.

32-year-old Sudhir Lunawat is a citizen of Bikaner, Rajasthan and is currently working as marketing for a reputed textile company in Surat (Gujarat). Sudhir, who has collected coins and currency from abroad for the last 20 years, says that some old coins who had unintendedly received their childhood enticed Sudhir so much that today the coins have become a recognised name in the world.

Sudhir has a huge collection of modern currencies from the beginning of human civilization to the present time. Various types of currency, which are popular in almost 200 countries around the world, are also telling the beauty of Sudhir’s collection. For some time now, Sudhir has started collecting notes of the value of one of all the countries of whole worlds. Recently, Sudhir has collected notes of the value of one more than 100 countries.

In the future, Sudhir wants to turn all his collection into a huge museum. Sudhir currently has a collection of 30-40 thousand coins. Sudhir has been taking a lot of interest in the activities of animal welfare, organism and vegetarianism for the last several years. Sudhir has provided treatment to infinite harmed and weary animals across the country so far.

Along with his work, Sudhir is also affectionate of writing stories, poems and letters. Sudhir has a huge collection of letters and autographs from famous people of the world. Sudhir has written letters to nearly 1000 celebrity people around the world so far. Many of them have sent great rewards back to them. Sudhir has collections of autographs of such great celebrities like Tibetan religion Guru Dalai Lama, American former President George Bush, Bill Clinton, Microsoft Founder of Bill Gates, Rakesh Sharma (the first Indian who stepped on the moon), Sunil Gavaskar, Priyanka Chopra, Narendra Modi, Ramnath Kovind, Atal Bihari Vajpayee, Abdul Kalam and President Pratibha Devi Patil.

To save the wild animals and birds, Sudhir also founded a foundation “Uday Ganga Foundation” under the name of his grandpa Uday Chand and granny Ganga Devi. More than five thousand animal welfare workers of the country and the world are connected to Sudhir.

Sudhir lunawat says that “every coin whether it is new or old is the heritage of a nation, with that coin, there is a glimpse of the history of that time, the culture of that time. After the task, I spend the spare time remaining in the works of animal welfare as well as the collection of new coins, the collection of letters and autographs. “

After knowing so much about Sudhir Lunavat, if anyone requires to see coins and foreign currencies collection throughout the world and see the autographs of celebrities, Surely they should go to Bikaner and meet them.

We publish the extraordinary life struggle of ordinary people on our website knownpedia. mystory@knownpedia.com

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
11
Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close